शिक्षा के आयाम – ओशो

जीवन में जो शिक्षा प्रचलित है, वह पर्याप्त नहीं है, अधूरी है, सतही है। वह सिर्फ ऐसे लोग निर्मित करती है जो रोजी-रोटी कमा सकते हैं लेकिन जीवन के लिए वह कोई अंतर्दृष्टि नहीं देती। वह न केवल अधूरी है बल्कि घातक भी है क्योंकि वह प्रतिस्पर्धा पर आधारित है। किसी भी प्रकार की प्रतिस्पर्धा गहरे में हिंसक होती है और प्रेम रहित लोगों को पैदा करती है। उनका पूरा प्रयास होता है जीवन में कुछ पाना है-नाम, कीर्ति, सब तरह की महत्वाकांक्षाएं। स्वभावतः उन्हें लड़ना पड़ता है और उसके लिए संघर्षरत रहना पड़ता है। उससे उनका आनंद और उनका मैत्री- भाव खो जाता है। लगता है जैसे हर व्यक्ति पूरे विश्व के साथ लड़ रहा है।

शिक्षा अब तक लक्ष्य की ओर उन्मुख रही है। तुम क्या सीख रहे हो यह महत्त्वपूर्ण नहीं है; साल दो साल बाद जो परीक्षा होगी वह महत्त्वपूर्ण है। वह भविष्य को महत्त्वपूर्ण बनाती है-वर्तमान से अधिक महत्त्वपूर्ण वह भविष्य के लिए वर्तमान की बलि चढ़ाती है। और यह तुम्हारी जीवन-शैली बन जाती है। तुम हमेशा इस क्षण को उसके लिए समर्पित करते हो जो अभी मौजूद नहीं है। उससे जीवन में गहन रिक्तता पैदा होती है।मेरी दृष्टि में शिक्षा के पांच आयाम होंगे। इससे पहले कि मैं उन पांचों आयामों की चर्चा करूं कुछ बातें खयाल में ले लेनी चाहिए। एक शिक्षा के अंग की भांति कोई भी परीक्षा नहीं होनी चाहिए। लेकिन प्रतिदिन, प्रत्येक घंटे में शिक्षक निरीक्षण करे और पूरे वर्ष के दौरान उन्होंने जो टिप्पणी लिखी होगी उससे निर्धारित होगा कि तुम आगे वढ़ोगे या उसी कक्षा में कुछ अधिक समय तक रहोगे। न कोई अनुत्तीर्ण होगा न कोई उत्तीर्ण होगा। फर्क इतना ही होगा कि कुछ लोगों की गति ज्यादा होगी, कुछ लोगों की थोड़ी कम होगी। असफलता का खयाल हीनता का गहरा घाव पैदा करता है और सफल होने का खयाल भी एक अलग तरह की बीमारी पैदा करता है : श्रेष्ठता का भाव।इसलिए परीक्षाओं की कोई जगह न होगी। इससे पूरा परिप्रेक्ष्यही बदलकर भविष्य से वर्तमान में आ जाएगा। तुम इन क्षण जो ठीक से कर रहे हो, वह निर्णायक होगा साल के अंत में पूछे जाने वाले पांच सवाल नहीं। इन दो वर्षों में तुम जिन हजारों चीजों से गुजरोगे वह हर चीज निर्णायक होगी। तो शिक्षा लक्ष्य-केन्द्रित नहीं होगी।

न कोई निकृष्ट है, न कोई श्रेष्ठ है। व्यक्ति सिर्फ स्वयं है, अतुलनीय। अतीत में शिक्षक अत्यंत महत्त्वपूर्ण था क्योंकि उसे पता था कि वह सब परीक्षाओं में उत्तीर्ण हो चुका है। उसने ज्ञान का संग्रह कर लिया था। लेकिन वह परिस्थिति अब बदल गई है। लेकिन समस्या यह है कि परिस्थिति बदल जाती है और उसके प्रति हमारे प्रति संवेदन पुराने ही रह जाते हैं। अब ज्ञान का विस्फोट इतना अधिक हो गया है इतना विराट और इतना तेज हुआ है कि तुम किसी वैज्ञानिक विषय पर बड़ी किताब नहीं लिख सकते क्योंकि जब तक तुम्हारी किताब पूरी होगी तब तक वह तिथि बाह्य हो चुकी होगी। नये तथ्य नये आविष्कार उसे असंगत कर देंगे। तो अब विज्ञान को लेखों पर, पत्रिकाओं पर निर्भर रहना पड़ता है, किताबों पर नहीं।शिक्षक ने तीस साल पहले शिक्षा पायी थी। तीस सालों में सब कुछ बदल गया और वह वही दोहराता रहता है, जो उसने तीस साल पहले सीखा था। वह तिथि बाह्य हो गया है और वह अपने विद्यार्थियों को तिथि बाह्य बना रहा है। मेरी दृष्टि में शिक्षक के लिए कोई जगह नहीं है। शिक्षकों की बजाए मार्गदर्शक होंगे। इस फर्क को समझ लेना जरूरी है। मार्गदर्शक तुम्हें यह बनाएगा कि पुस्तकालय में इस विषय पर नवीनतम जानकारी कहां मिल सकती है। भविष्य में कम्प्यूटर अत्यधिक क्रांतिकारी रूप से महत्त्वपूर्ण सिद्ध होने वाला है। उदाहरण के लिए विद्यार्थियों को जिस तरह से शिक्षा दी जाती है वह बिलकुल ही पुरातनपंथी है। अभी भी वह स्मृति को पुष्ट करने पर निर्भर करता है। और स्मृति पर जितना बोझा डाला -जाये उतनी ही स्पष्टता और बुद्धिमत्ता की संभावना कम हो जाती है। मैं इसे एक बहुत बड़ा अवसर मानता हूं कि सबतरह की जानकारी का संग्रह करने से विद्यार्थियों को मुक्ति मिल सकती है। वे अपने साथ छोटे कम्प्यूटर रख सकते हैं जिनमें उनके जरूरत की सभी जानकारी होगी। उससे मस्तिष्क को अधिक ध्यान पूर्ण, सुस्पष्ट और निश्छल होने में मदद मिलेगी। अभी तो उनके मस्तिष्क में व्यर्थ का कड़ा-करकट भरा रहता है।भविष्य में शिक्षा कम्प्यूटर और टेलीविजन पर ही केन्द्रित होगी क्योंकि पढ़ा हुआ या सुना हुआ इतनी सरलता से खयाल में नहीं रहता जितना कि देखा हुआ। कान या अन्य किसी भी साधनों की अपेक्षा आंखें कहीं अधिक शक्तिशाली माध्यम है। और पढ़ने या सुनने से जो कब पैदा होती है वह भी उसमें नहीं होती। उल्टे टेलीविजन एक आनंदपूर्ण अनुभव बन जाता है। भूगोल बड़े रंगीन ढंग से पढ़ाया जा सकता है।शिक्षक केवल एक मार्गदर्शक होगा जो -तुम्हें उचित चैनल दिखा देगा, तुम्हें कम्प्यूटर का उपयोग करना सिखा देगा और यह भी सिखा देगा कि नवीनतम किताब को कैसे खोजना। उसका काम बिल्कुल ही भिन्न होगा। वह तुम्हें ज्ञान नहीं दे रहा है, वह तुम्हें समकालीन ज्ञान के गति सजग कर रहा है। वह केवल मार्गदर्शक है।इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए मैं शिक्षा को पांच आयामों में बांटता हूं।

पहला आयाम है सूचनात्मक जैसे इतिहास, भूगोल और इस तरह के बहुत से विषय जिन्हें टेलीविजन और कम्प्यूटर द्वारा एक साथ पढ़ाया जा सकता है। लेकिन इतिहास के संबंध में हमें एक आत्यांतिक मूलभूत दृष्टिकोण लेना पड़ेगा, अभी तो चंगेजखान, तैमूरलंग, नादिरशाह, एडोल्फ हिटलर इत्यादि लोगों से इतिहास बना है। ये हमारा इतिहास नहीं है ये हमारे दुःस्वप्न हैं। आदमी आदमी के साथ इतना क्रूर हो सकता है, यह खयाल ही घृणा पैदा करता है। हमारे बच्चों के भीतर ऐसे विचार नहीं डाले जाने चाहिए। भविष्य में इतिहास के पन्ने केवल उन लोगों से भरे होने चाहिए। जिन्होंने इस ग्रह के सौंदर्य को बढ़ाने में योगदान दिया है- गौतमबुद्ध, सुकरात, लाओत्से; जलालुद्दीन, रूमी, जे. कृष्णमूर्ति जैसे महान रहस्यवादी; वाल व्हिटमन, उमर खैयाम जैसे श्रेष्ठ कवि, लियो टालस्टाय, मैक्सिम, गोर्की, फ्योदोर दोस्तोवस्की, रवींद्रनाथ टैगोर, बाशो जैसे महान साहित्यकार।हम अपनी विरासत की विधायक भव्यता की शिक्षा दें। और जो लोग अव तक ऐतिहासिक दृष्टि से महान माने गये हैं- एडोल्फ हिटलर जैसे को उनका उल्लेख केवल टिप्पणियों में हो। उनका स्थान सिर्फ टिप्पणियों में होगा या परिविष्ट (फुट नोट) में जिसके साथ यह साफ स्पष्टीकरण हो कि या तो वे विक्षिप्त थे या हीनता ग्रंथि या अन्य किसी मानसिक विकार से पीड़ित थे। हमें आने वाली पीढ़ियों को इस बात से अवगत करा देना चाहिए कि अतीत में हमारा एक अंधेरा पहलू रहा है, जो पूरे अतीत पर हावी रहा है लेकिन अब उस पहलू के लिए कोई जगह नहीं है।पहले आयाम में भाषाएं भी सम्मिलित हैं। संसार के प्रत्येक व्यक्ति को दो भाषाएं तो सीखनी ही चाहिए; एक उसकी मातृभाषा और दूसरी अंग्रेजी जो कि अंतर्राष्ट्रीय आदान-प्रदान की भाषा है। इन भाषाओं को टेलीविजन के माध्यम से बिलकुल सही ढंग से सिखाया जा सकता है- बोलने का अंदाज, व्याकरण हर चीज आदमी से अधिक सही ढंग से सिखायी जा सकती है। हम विश्व में एक बंधुता का वातावरण तैयार कर सकते हैं। भाषा लोगों को जोड़ती है और भाषा तोड़ती भी है। इस समय अंतर्राष्ट्रीय भाषा एक भी नहीं है। इसके लिए हमारे पूर्वाग्रह जिम्मेदार हैं। अंग्रेजी में पूरी क्षमता है क्योंकि विश्व भर में बहुत बड़े पैमाने पर ज्यादा लोग इसे जानते हैं।

दूसरा आयाम : – वैज्ञानिक विषयों की खोज। यह अत्यंत महत्त्वपूर्ण है क्योंकि यह वास्तविकता का आधा अंग है। बाह्य वास्तविकता का। वे भी टेलीविजन और कम्प्यूटर द्वारा सिखाये जा सकते हैं। परंतु वे अधिक जटिल हैं, इसलिए मानव-मार्गदर्शन की ज्यादा जरूरत होगी।

तीसरा आयाम वह होगा जिसकी आज की शिक्षा में कमी है : लोग यह माने बैठे हैं कि वे प्रेम जानते हैं। वे नहीं जानते; और जब तक वे जानने लगते हैं, बहुत देर हो चुकी होती है। प्रत्येक बच्चे को सिखाया जाए कि उसके क्रोध, घृणा, ईर्ष्या को प्रेम में कैसे रूपांतरित किया जाए।तीसरे आयाम का एक महत्त्वपूर्ण अंग होगा हास्य- व्यंग्य की समझ। हमारी तथाकथित शिक्षा लोगों -को उदास और गंभीर बनाती है। और अगर तुम्हारे जीवन का एक तिहाई हिस्सा विश्वविद्यालय में उदास और गंभीर होने में व्यतीत हो जाए तो वह तुम्हारे भीतर गहरा खुद जाता है, तुम हंसी की भाषा भूल जाते हो और जो आदमी हंसी की भाषा भूल जाता है, वह जीवन का बहुत कुछ भूल जाता है।तो प्रेम, हंसी और जीवन के आश्चर्य और रहस्यों से परिचय… वृक्षों पर चहकते हुए इन पक्षियों का संगीत अनसुना न रह जाए। इन वृक्षों, फूलों और सितारों का तुम्हारे हृदय के साथ कोई नाता जुड़ना चाहिए। ये सूर्योदय और सूर्यास्त महज बाह्य घटनाएं नहीं होनी चाहिए वे कुछ आंतरिक भी हों। जीवन के प्रति आदर तीसरे आयाम की बुनियाद होनी चाहिए। लोग जीवन के प्रति बहुत अनादर से भरे हैं।

चौथा आयाम होना चाहिए कला और सृजनात्मकता : चित्रकला, संगीत, हस्तकला, कविता, पत्थर तोड़ने का काम-जो भी सृजनात्मक है, वह सब। सृजनात्मकता के सब क्षेत्रों में उन्हें अवगत कराना चाहिए। फिर विद्यार्थी चुनाव कर सकते हैं। सिर्फ कुछ ही बातें आवश्यक होनी चाहिए-जैसे अंतर्राष्ट्रीय भाषा का ज्ञान आवश्यक होना चाहिए। तुम्हारी आजीविका कमाने की क्षमता आवश्यक होनी चाहिए, कोई भी एक सृजनात्मक, कला आवश्यक होनी चाहिए। सृजनात्मक कलाओं के पूरे इंद्रधनुष में से तुम चुन सकते हो। क्योंकि जब तक आदमी सृजन की कला नहीं जानता तब तक अस्तित्व का अंश नहीं बनता जो कि सतत सृजन कर रहा है। सृजनात्मक होने से आदमी दिव्यत्व को उपलब्ध हो जाता है। सृजनात्मकता एकमात्र प्रार्थना है।पांचवां आयाम होगा मरने की कला। इस पांचवें आयाम में ध्यान की सब विधियां होगी ताकि तुम जान सको कि मृत्यु होती ही नहीं; ताकि तुम अपने भीतर के शाश्वत जीवन से परिचित हो जाओ। इसे अत्यंत आवश्यक किया जाना चाहिए क्योंकि हर व्यक्ति को मरना है इससे कोई बच नहीं सकता और ध्यान के विशाल छाते के नीचे झेन, ताओ योग, हसीद धर्म सभी तरह की संभावनाएं जो आज तक रही हैं, उनसे परिचित कराया जा सकता है और आज तक शिक्षा ने इसकी फिक्र नहीं की है।मैं खुद एक प्राध्यापक रहा हूं। और मैंने विश्वविद्यालय से यह कहकर इस्तीफा दिया कि यह शिक्षा नहीं है, यह निपट मूढ़ता है। तुम कुछ भी अर्थपूर्ण नहीं सिखा रहे हो।लेकिन सारे संसार में यही निरर्थक शिक्षा प्रचलित है। फिर वह सोवियत संघ हो कि अमेरिका हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता किसी ने अधिक संपूर्ण अधिक समग्र शिक्षा की ओर ध्यान नहीं दिया है इस अर्थ में करीब-करीब हर व्यक्ति जीवन के बृहत्तर क्षेत्र में अशिक्षित है। कुछ लोग ज्यादा अशिक्षित हैं, कुछ लोग कम; लेकिन हर कोई अशिक्षित है। सुशिक्षित आदमी मिलना असंभव है क्योंकि संपूर्ण शिक्षा नाम की कोई चीज ही नहीं है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close